गीता टंडनः एक बॉलीवुड स्टंटवुमन की कहानी

गीता टंडनः एक बॉलीवुड स्टंटवुमन की कहानी

स्टन्टमैन की नौकरी जिसमे बहुत हिम्मत और मेहनतभरी प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। और ये बात साबित करती है की भारत मे ज्यादा स्ंटट करने वालो की तादाद काफी कम है जिसमे औरतो की संख्या तो मुटठीभर ही है सिर्फ कुछ ही ने इस खतरनाक व्यवसाय को अपनाया है। और प्रशिक्षण के बाद भी उनमें से ज्यादातर कई स्टंटों को करने से मना कर देते है खासकर कार के स्ंटट के लिये। और इसकी बड़ी वजह है स्ंटट करने वालो को मिलने वाली सुविधा जो नाकाफी होती है ना उनका कोई बीमा होता है और ना ही फिल्म सेट पर कोई डाक्टर मौजूद रहता है। इसलिये ये जोखिम का काम है। कुछ समय पहले ही अक्षय कुमार ने उनके बीमा करवाने की बात की थी लेकिन बाकी और कोई स्टार सामने नही आया था।

31 वर्षीय गीता टंडन का दावा है कि वह अकेली स्टंटवुमन है, जिसने कार का पीछा करने के लिए सफलतापूर्वक प्रयास किया और वह भी कम से कम प्रशिक्षण के साथ। लेकिन फिर से, जैसी चीजें ऐसी स्थिति में आती हैं जो एक ऐसे व्यक्ति के लिए अधिक आसानी से आती हैं जिन्होंने अपने जीवन का बड़ा हिस्सा दांतों से और नाखूनो से लड़ने के लिये व्यतित किया वो भी सिर्फ जीवित रहने के लिए । गीता जब नाबालिग ही थी तभी उनके पिता ने उनकी शादी कर दी वो बताती है की जब वो मात्र 16 साल की थी तो वो गर्भवती हो गयी थी उनका पति रोज उन्हे मारता पिटता था एक बार तो उनका बच्चा दूध के लिये रो रहा था जबकि उस वक्त उनका पति उन्हे पीट रहा था अपने पति से बचने के लिये वो अपनी बड़ी बहन के पास चली गयी

उसने घर से तीन बार भागने की कोशिश की और यहां तक कि पुलिस को शिकायत भी की। लेकिन पुलिस वालो ने उन्हे शादी के सलाहकारों से बात करने की सलाह दे कर बात को रफादफा करे दिया। पुलिस ने मुझे बताया कि वैवाहिक झगड़े को घर की दीवारों में रखा जाना चाहिए। फिर उन्होने शिकायत दर्ज करने का प्रयास बंद कर दिया क्योंकि किसी ने उनका सर्मथन नही किया।

20 साल की उम्र में, टंडन अंततः अपने पति के चंगुल से मुक्त हो गयी। इससे पहले उसने कभी काम नहीं किया उसे नहीं पता था कि वह सड़कों पर कैसे जीवित रहेगी। यहां तक की उसने 10 वीं कक्षा तक पढ़ाई की थी। कार्य करना एक अजूबा था उसके लिये किंतु उसने आशा नही खोई थी। उसने कई छोटे-मोटे नौकरीया की। इस चक्कर मे कई बार वो दलाल से भी टकराई जिसने उन्हे देह व्यापार मे धकेलने की कोशीश की किंतु वो इन सबसे बचती रही। उन्होने एक भांगरा ग्रुप ज्वाईन कर लिया जिनका काम था शादी और पार्टीयो मे नाचना और ऐसे ही उनकी मुलाकात हुयी एक औरत से जिसने उन्हे स्ंटटवुमेन बनने की सलाह दी।

आज, टंडन हर साल औसतन 7-8 लाख रुपये कमाती है और इसमें विशेष परियोजनाओं के लिए मिलने वाली कमीशन शामिल नहीं है। वह मालाड में एक घर का मालिक भी है, और दावा करते हैं कि हर अभिनेता - जैसे परिणीति चोपड़ा, करीना कपूर, आलिया भट्ट और दीपिका पादुकोण समेत कई लोगों के लिए स्टंट डबल के रूप में काम किया है - उन्हें सम्मान और स्नेह के साथ याद करते है।<>/

टंडन के बच्चों (उनकी बेटी 16 और उसके बेटे 14) दोनों स्कूल जाते हैं और उनकी मां के करीब हैं। मेरे बच्चे शादी करने से पहले अपने पैरों पर खड़े होना चाहते हैं वे कहते हैं कि यह एक जीवन सबक है जो मैंने उन्हें दिया है, वह गर्व से कहती हैं उनका भी एक स्कूल खोलने की योजना है जो महिलाओं को लड़ने और आत्मरक्षा पाठ प्रदान करता हो। वह कहती हैं, हर महिला को मारने के बजाय खुद के लिए खड़ा होना चाहिए और ये उन्होने बड़े ही दृढ़ आवाज मे बोला।